महानायक अमिताभ बच्चन से लम्बा हो चुका है उनके नाम से लगाया गया पोैधा

plant -named -after- megastar- Amitabh -Bachchan- has- become -taller-jaipur-rajasthan-india

जयपुर, 5 जून । वर्ष 2016 में जयपुर वैक्स म्यूजियम के फाउंडर डायरेक्टर अनूप श्रीवास्तव, तत्कालीन अधीक्षक श्रीमती कृष्णकांता शर्मा तथा सुश्री डॉ संगीता राठोैड ने वर्ल्ड आइकॉन अमिताभ बच्चन, डॉ  ए पी जे अब्दुल कलाम, सचिन तेंदुलकर, राजमाता गायत्री देवी के नाम से नाहरगढ़ दुर्ग में बढ़, शीशम, गुलमोहर, अशोक के वृक्ष के पौधे लगाए थे जो आज पूर्ण वृक्ष का रूप ले चुके हैं।

इस वर्ष भी खजाना महल में 7 वृक्ष को लगाकर विश्व पर्यावरण दिवस को सेलिब्रेट किया गया । इस अवसर पर   ‘पेड़ लगाओ- पेड़ सांवरो- और आने वाली पीड़ी को बचाओ ‘ के  सन्देश  के  साथ जयपुर वैक्स म्यूजियम के सभी सदस्यों ने  101 पेड़  लगाने  का  संकल्प भी लिया गया ।
जयपुर वैक्स म्यूजियम के फाउंडर डायरेक्टर अनूप श्रीवास्तव  ने बताया की बड़ी ख़ुशी होती है जब भी इन घने वृक्षो पर के नीचे पर्यटकों को छाँव का आनंद लेते देखता हूँ , एक गर्व की अनुभूति होती है ।

उन्होने कहा महानायक अमिताभ बच्चन जी के नाम  से लगाया  गया 2 फ़ीट छोटा पौधा आज वट वृक्ष का रूप ले रहा है , ‘अमित  वृक्ष ‘ नाम के इस पौधे  ने 7 वर्षो में 16 फ़ीट की ऊंचाई को लिया है, और वर्षोंवर्ष तक ये और अपना आकर बड़ा करता रहेगा और पर्यटकों को ठंडी छाँव देता रहेगा ।

Amitabh -Bachchanplant -named -after- megastar- Amitabh -Bachchan- has- become -taller-Jaipur- Wax -Museum's- Founder- Director- Anoop -Srivastava- world icons -Amitabh -Bachchan- Dr A.P.J.-kalam- ashoka- tree rajasthan-india

फोटो में आप देखेंगे कैसे बंजर हालत में थी वर्ष 2016 में स्थिति और आज चारो तरफ फोर्ट में हरियाली का माहौल है, इसमें पुरात्तव विभाग के अधिकारीयों ने भी बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया तभी आज सम्पूर्ण दुर्ग हरा भरा हो चुका है ।

अनूप श्रीवास्तव ने कहा  पर्यावरण दिवस  पर  सिर्फ   पौधा  लगाकर  इतिश्री  कर  लेने  से  ही  पर्यावरण  बचेगा  ऐसा  नहीं  है  बल्कि  संकल्प  के  साथ  उस  पौधे  की   देखभाल  करना  साथ  ही  अपनी  दैनिक  जरूरतों  से  पर्यावरण  को  नुकसान  पहुँचाने  वाली  वस्तुओं  को  भी  मसलन  प्लास्टिक न इस्तेमाल में लेना या फिर एनर्जी को सेव करना इत्यादि संकल्प से ही पर्यवरण का संरक्षण हो सकता है, जैसा हमने करने का प्रयास किया है ।